शनिवार, 20 जून 2015

वसुधंरा राजे ने सराहीं हेमलता मेघवाल की कृति

मेघवाल समाज भले ही सदीयों से दबा-कुचला रहा हो। लेकिन जैसे ही इस समाज को आगे आने का मौका मिला तो फिर यह पिछे नहीं हटा। प्रशासन,सरकारी सेवा,राजनीति,आईटी,उद्योग हो या फिर कला का क्षेत्र। चित्रकला के क्षेत्र में तो कई मूर्धन्य कलाकार अपने समाज नाम रोशन कर रहे हैं। इसी तरह से पिछले दिनों पाली जिले की एक बालिका की चित्रकृति ने समूचा मेघवाल समाज का नाम गौरवान्वित कर दिया। यह कृति तत्कालीन मुख्यमंत्री वसुधंरा राजे को इतनी भायी कि उन्होंने खुद एक पत्र लिखकर उसकी तारीफ की। यह बालिका हैं कुमारी हेमलता। इस छात्रा ने पिछली 2 सितम्बर 2008 को राज्य स्तरीय चित्रकला प्रतियोगिता में हिस्सा लिया था। उसकी चित्रकृति लाजवाब थी। इससे प्रभावित होकर मुख्यमंत्री राजे ने इस होनहार बालिका को पत्र लिखकर मुक्तकंठ से सराहना की। इस कृति को आर्ट एट दी सचिवालय में प्रकाशित किया गया। इतना ही नही इस कृति को शासन सचिवालय भवन में सुशोभित किया गया। जिले को यह सम्मान दिलाने के उपलक्ष में जिला कलेक्टर करणसिंह राठौड़ ने भी इस बालिका को सम्मानित किया। वर्तमान में पाली रह रही यह बालिका मूलत: देसूरी तहसील के गजनीपुरा ग्राम की निवासी हैं। पिता लक्ष्मणलाल परिहार क्रेन सर्विस एवं इंजीनियरिंग वक्र्स का व्यवसाय करते हैं। पिता व माता श्रीमती पूनम बालिका को चित्रकला के लिए प्रोत्साहित करते रहे हैं। इसी का परिणाम हैं कि उसने अपनी कला का लोहा प्रदेश में मनवा लिया। इस बालिका पर समूचे समाज को गर्व हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...