सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

मेघवंश महासभा ने मुख्यमंत्री चौहान को लिखा पत्र

सुप्रीम कोर्ट ने चमार शब्द को अपमानसूचक और असंवैधानिक बताया है। प्रदेश सरकार सुप्रीम कोर्ट की भावना का सम्मान करें। मेघवंश महासभा ने मुुख्यमंत्री शिवराजङ्क्षसह चौहान और मुख्य सचिव को इस बारे में पत्र लिखा है। राष्ट्रीय महासचिव प्रभुलाल चंदेल, अध्यक्ष देवेंद्र परिहार ने मांग की कि प्रत्येक जिलों के कलेक्टरों को इस संबंध में निर्देश जारी किए जाएं। इस असंवैधानिक शब्द को विलोपित किया जाए।

Last Updated 01:01(07/01/12)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...