सोमवार, 30 जनवरी 2012

(मेघवंश) बलाई समाज के महासम्मेलन को लेकर बांटी जिम्मेदारियां

किशनगढ़-रेनवाल. जयपुर में  होने वाले राष्ट्रीय (मेघवंश) बलाई समाज के महासम्मेलन को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। राष्ट्रीय संयोजक मास्टर हरिराम पाटोदिया ने बताया कि अनुसूचित जाति के लोगों की विभिन्न मांगों को लेकर समाज का राष्ट्रीय सम्मेलन जयपुर के अमरूदों के बाग में सुबह 10 बजे आयोजित होगा। सम्मेलन में देशभर से करीब दो लाख समाज बंधुओं के शामिल होने का अनुमान है। जयपुर ग्रामीण से महासम्मेलन में 200 बसें समाज के लोगों के लाने ले जाने के लिए लगाई जाएंगी। पाटोदिया ने बताया कि 11 सूत्री मांगों को लेकर महासम्मेलन आयोजित किया गया है जिसमें देश के प्रत्येक राज्यों में मेघवंश कल्याण बोर्ड का गठन किया जाए जिसका दो हजार करोड़ रुपए का बजट आवंटन हो। जनसंख्या के अनुपात में अनुसूचित जाति का बजट दुगुना किया जाए, जिसे समाज के उत्थान, विकास पर खर्च किया जाए। अनुसूचित जाति की जमीनों को सवर्णों के कब्जों से हटाने के लिए अलग से मंत्रालय बनाया जाए आदि मांगों को मनवाने के लिए केंद्र सरकार से मांग की जाएगी। महासम्मेलन को लेकर तहसील व पंचायत स्तर पर प्रभारी नियुक्त कर जिम्मेदारी बांटी गई। सम्मेलन को राज्य व राष्ट्रीय स्तर के नेता संबोधित करेंगे।
दीपावली स्नेह मिलन आयोजित
रामपुरा डाबड़ी. कस्बे के रेलवे लाइन स्थित नकट्या बालाजी मंदिर में युवाओं ने दीपावली स्नेह मिलन व संगोष्ठी का आयोजन किया। कार्यक्रम में शैलेष बोहरा, रतन काछवाल आदि ने कहा कि संगठन में शक्ति है। इसलिए युवाओं को संगठन से जुडऩा चाहिए। इस अवसर पर सुंदरकांड पाठ के बाद प्रसादी भी वितरित की गई। कार्यक्रम में प्रहलाद सुंदरिया, बीएल खत्री, सुरेश भदाला, महेश पारीक, रामेश्वर पान वाला, विक्रम सिंह, विनोद, सुरेंद्र, नानू, फूलचंद आदि उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...