रविवार, 23 जुलाई 2017

बोरावड़ के भीम सेनिक संजय साणेल वकालत के साथ साथ समाज सेवा मे भी अव्वल

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बोरावड़ नागौर //जब मे आगे देखता हूँ तो मुझे समाज सेवी नज़र आते है और पीछे मुड़कर देखता हूँ तो उनकी बाते समाज सेवा की ही होती है ऐसा नजारा मुझे मिला है राजस्थान प्रांत के नागौर जिले के बोरावड़ कस्बे के मेघवाल समुदाय के युवा समाज जनसेवक संजय साणेल दोस्तो आजाद हिंदुस्तान मे दिनप्रतिदिन समाज सेवकों की इतनी बढ़ोत्तरी हो रही है जेसे पुलिस फोर्स मे सेनिकों की लेकिन यह समाज सेवा भी किसी से कम नही है क्यों की समाज सेवा भी समाज का भविष्य होता है संजय साणेल बोरावड के निवासी है इन्होने गुजरात से लॉ की डिग्री प्राप्त किया है संजय साणेल का उद्देश्य समाज सेवा के साथ साथ वकालत करनी भी है क्यों की साणेल कहते है की वकालत भी समाज मे बहूत महत्वपूर्ण है यह वकालत समाज का हिस्सा होता है जिसमे समाज मे हो रहे अत्याचार मिट सके और समाज का नाम आगे बढ़ते भी रहे सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह  है  इसी कारण संजय वकालत के साथ.साथ समाज सेवा मे भी अव्वल है की संजय साणेल  एक 22 साल का युवा है और इतनी छोटी सी उम्र मे समाज सेवा का नशा बहूत ही कम देखने को मिलता है  तथा संजय बाबा साहेब के विचारो से बहूत प्रभावित हुवे है और लोगो को बाबा साहेब के मार्ग पर चलने के लिये लोगो को प्रेरित करते रहते है इस लिये मेरे अनुसार संजय मेघवाल के विचार  बौद्धिक संपदा अधिकारों में उभरते नए आयाम मुद्दे व चुनौतियों आदि हो सकती है संजय साणेल का कहना है की कानूनविदों को वकालत का पेशा नैतिकता और समाजसेवा के रूप में अपनाना चाहिए।
वकालत केवल पेशा ही नहीं,बल्कि समाज के प्रति एक सेवा भी है। वकील के जरिए ही जरूरतमंद को न्याय मिलता है उसकी देश के संविधान के प्रति आस्था बढ़ती है। इसलिए देश हित में सभी वकील अपने दायित्व का पालन करें। ये सभी सोच रखते है संजय और इनके साथियों ने बोरावड़ मे निःशुल्क कोचिंग का भी संचालन कर रखा है जिसमे दलित और गरीबी रेखा से नीचे गुजरने वाले बच्चो को निःशुल्क शिक्षा देते है जिसमे आसपास मे बहूत चर्चाऔ के आयाम बन चुके है संजय साणेल गरीबो के हितैषी है तथा हमेशा गरीबो की सेवा करने के लिये तत्पर रहते है :-नवरत्न मन्डुसिया की कलम से 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...