शुक्रवार, 11 मई 2012

दशरथ मेघवाल करणी जी महाराज का परम भक्त एवं गायों का चरवाहा था (dashrath meghwal)

मां करणी जी देशनोक मंदिर के मुख्य द्वार के निकट ही दशरथ मेघवाल का स्थान है जहां नियमित रूप से पूजा होती है। ज्ञातव्य हो कि दशरथ मेघवाल करणी जी महाराज का परम भक्त एवं गायों का चरवाहा था जो गायों की रक्षार्थ वीरगति को प्राप्त हो गया था। उसके बलिदान के सम्मानार्थ श्री करणी जी महाराज ने अपने जीवनकाल में ही उसकी पूजा प्रारम्भ करवादी थी। छुआछूत के उस युग में ऐसा उदाहरण अन्यत्र मिलना अत्यन्त दुर्लभ ह

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

भँवर मेघवंशी ने किया अपना देहदान

एक जरुरी फैसला - देहदान का ! मैं जो भी हूँ ,आप सबके प्यार ,स्नेह और मार्गदर्शन की वजह से हूँ। इसलिए आप सबका खूब खूब धन्यवाद ,साधुवाद,आभा...