सोमवार, 25 अप्रैल 2011

राजस्थान में मेघवाल महिलाएँ उनकी सुंदर और विस्तृत वेशभूषा और आभूषणों के लिए प्रसिद्ध हैं. विवाहित महिलाओं को अक्सर सोने की नथिनी, झुमके और कंठहार पहने हुए देखा जा सकता है. यह सब दुल्हन को उसकी होने वाली सास "दुल्हन धन" के रूप में देती है. नथनियाँ और झुमके अक्सर रूबी, नीलम और पन्ना जैसे कीमती पत्थरों से सुसज्जित होते हैं. मेघवाल महिलाओं द्वारा कढ़ाई की गई वस्तुओं की बहुत मांग है. अपने काम में वे प्राथमिक रूप से लाल रंग का प्रयोग करती हैं जो स्थानीय कीड़ों से उत्पादित विशेष रंग से बनता है. सिंध और बलूचिस्तान में थार रेगिस्तान और गुजरात की मेघवाल महिलाओं को पारंपरिक कढ़ाई और रल्ली बनाने का निपुण कारीगर माना जाता है. हाथ से की गई मोहक कशीदाकारी की वस्तुएँ मेघवाल महिलाओं के दहेज का एक हिस्सा होती हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

नवरत्न मन्डुसिया

देवास शुभागमन होगा बलाई समाज के चमत्कारिक सन्तशिरोमणी भगवान भीखाजी महाराज की पावन चरण पादुका दर्शन यात्रा का।

मंडुसिया न्यूज़ ! मध्यप्रदेश ! देवास प्रान्तीय बलाई समाज विकास मंच के जिला मीडिया प्रभारी राहुल परमार ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनाँक 1...