सोमवार, 25 अप्रैल 2011

मेघ, मेघवाल या मेघवार, (उर्दू:میگھواڑ, सिंधी:ميگھواڙ) लोग मुख्य रूप से उत्तर पश्चिम भारत में रहते हैं और कुछ आबादी पाकिस्तान में है. सन् 2008 में, उनकी कुल जनसंख्या अनुमानतः 2,807,000 थी, जिनमें से 2760000 भारत में रहते थे. इनमें से वे 659000 मारवाड़ी, 663000 हिंदी, 230000 डोगरी, 175000 पंजाबी और विभिन्न अन्य क्षेत्रीय भाषाएँ बोलते हैं. एक अनुसूचित जाति के रूप में इनका पारंपरिक व्यवसाय बुनाई रहा है. अधिकांश हिंदू धर्म से हैं, ऋषि मेघ, कबीर, रामदेवजी और बंकर माताजी उनके प्रमुख आराध्य हैं. मेघवंश को राजऋषि वृत्र या मेघ ऋषि से उत्पन्न जाना जाता है

1 टिप्पणी:

  1. प्रमुख लोग
    ASHOKKUMAR BHATTI IS PRESIDENT-REPUBLICAN PARTY OF INDIA.GUJARAT STATE फकिर भाइ वाघेला ०३ बार गुजरात के सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री बने।जो अभि भि सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्री हे।

    मिल्खी राम भगत पंजाब राज्य के सभी अनुसूचित जातियों के बीच पहले थे जिन्हें पंजाब सिविल सेवा (पीसीएस) के पहले बैच में चयनित किया गया. उन्होंने मजिस्ट्रेट और अन्य प्रशासनिक पदों पर कार्य किया और हंसराज, आईएएस और मास्टर दौलतराम के साथ मिल कर मेघों को अनुसूचित जाति में शामिल कराने के लिए काम किया.[४६]
    सुश्री सुमन भगत जम्मू-कश्मीर सरकार में स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा मंत्री के स्तर तक पहुँचीं.[४७]
    चूनी लाल भगत पहले मेघ थे जो पंजाब विधान सभा के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए. उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा.[४८]
    सुश्री स्नेह लता कुमार भगत पंजाब के मेघों में से पहली महिला हैं जो सीधे आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारी बनीं. वे तब प्रकाश में आईं जब उन्होंने चेन्नई में अखिल भारतीय सिविल सेवा प्रतियोगिता के दौरान तैराकी स्पर्धाओं में दो रजत पदक जीते.[४९]
    सुश्री विमला भगत पहली मेघ थीं जिन्हें भारतीय प्रशासनिक सेवा में पदोन्नत किया गया. वे हिमाचल प्रदेश लोक सेवा आयोग की अध्यक्ष बनी.[५०]
    स्वतंत्रता सेनानी श्री धनपत राय कल्ला कालेरा बास चूरू में पैदा हुए जो एक मेघवाल थे
    भंवर लाल मेघवाल राजस्थान के शिक्षा मंत्री बने.[५१]
    सुरेंदर वलसई मेघवार एक प्रसिद्ध पत्रकार और मीडिया प्रकोष्ठ, बिलावल हाउस, पाकिस्तान के मीडिया समन्वयक हैं. वे पाकिस्तान में मेघवार समुदाय के भीतर सबसे प्रमुख और प्रभावशाली व्यक्ति हैं. वे शिड्यूल्ड कास्ट फेडरेशन ऑफ पाकिस्तान के संस्थापक अध्यक्ष हैं.
    मांगी लाल को विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार (1998) और श्रम श्री पुरस्कार (2003) मिला.[५२]
    प्रो. राजकुमार, राष्ट्रीय अध्यक्ष, भगत महासभा[५३] ने भारत में मेघों की एकता के लिए बहुत कार्य किया है. उन्होंने पंजाब, हरियाणा, जम्मू कश्मीर, राजस्थान आदि में भगत महासभा की राज्य इकाइयों को स्थापित किया है. वे मेघों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए सामाजिक नेटवर्किंग चला रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...