शनिवार, 9 जुलाई 2011

मेघ ऋषि - नए प्रतीक (Megh Rishi - New Icon and Symbol)

मेघ समाज में मेघ ऋषि की कथाएँ बहुत पुरानी हैं. परंतु उसका स्वरूप क्या है, रंग-रूप क्या है इसके बारे में कोई बिंब मन पर नहीं था. राजस्थान के मेघवालों से अब प्राप्त हो रही जानकारी और सिंधु घाटी सभ्यता से संबंधित आलेखों से मालूम पड़ता है कि मेघ ऋषि का बिंब ही नहीं उसकी समस्त कथाओं के प्रमाण भी उपलब्ध हैं.
राजस्थान में युवाओं के चरित्र निर्माण के लिए मेघसेना बनाई गई है और मेघ सेना के प्रतीक के तौर पर कमांडर के रूप में स्वयं मेघ ऋषि को लिया गया है.

  megh rishi ji maharaj
शांत और विनम्र ऋषि के रूप में मेघ ऋषि धार्मिक प्रतीक के तौर पर उभरे हैं.

कोई टिप्पणी नहीं:

नवरत्न मन्डुसिया

देवास शुभागमन होगा बलाई समाज के चमत्कारिक सन्तशिरोमणी भगवान भीखाजी महाराज की पावन चरण पादुका दर्शन यात्रा का।

मंडुसिया न्यूज़ ! मध्यप्रदेश ! देवास प्रान्तीय बलाई समाज विकास मंच के जिला मीडिया प्रभारी राहुल परमार ने जानकारी देते हुए बताया कि दिनाँक 1...