गुरुवार, 16 जून 2011

Meghwal मेघवाल


Several aspects of Meghwar history and history of its literature are so shrouded into mist that we cannot differentiate the porous border of the historical events and the mythological beliefs where the Pauranic references have been diffused into the historical facts. So is the case with the great Meghwar personalities who lived historical lives in the mediaeval history of Indian Subcontinent. We encounter difficulties when the identity of Megh Rikh, Megh Dharu, Megh Mahya or Meghwar itself is questioned. In this article we will try to understand the historical identity of Megh Rikh and Megh Dharu. There is common belief that Megh Rikh was the prime ancestor of Meghwar. In the Meghwar traditional literature and oral stories he is considered as the most revered personality among all the Meghwars alike. Meghwar consider themselves as the descendents of this great saint. It is also said that he got divine knowledge directly from God Shiva and handed down to his son named Megh Dharu who later endowed it to the Meghwar Jati or Meghwar community. Literally, Megh means Rain and Rikh is a local Rajasthani or Kutchhi dialect meaning Rishi. Both the terms Megh and Rishi have come from Sanskrit language. As described, Megh means ‘rain’ but in the mythological context the term is usually attributed to the ‘Rain god’1. While another term Rikh, an abrogated form of the original Sanskrit term Rishi, which in the Hindu religious customs is referred to an ascetic or a seer. A Rishi is an ancient religious person who was often involved into the religious practices at a secluded place in the jungle or on the mountain. It has been noticed that the term Rikh in its local form was found or became famous first time into the Meghwar traditions and has now become an identity of this community. Similarly the term Rikhesar is also known which means the ‘Chief Rikh’ or ‘Chief Rishi’. It is probable that this terminology might have been used for Megh Rikh also.
The Meghwars belonging to different panths and religious orders have their own versions about the origin of Megh Rikh however a similarity lies in the deep to all the versions of the tradition. In the Megh Mahatamaya2 it is said that God Shiva uttered the Agama Nigama to Megh Rikh who handed down them to his son Megh Dharu. Megh Dharu endowed the divine words to the Meghwar Jati or members of Meghwar community for their religious life. Barmati traditional literature also tells that ‘Megh Rikh had directly descended from the Hindu god Brahma’.3 An eminent anthropologist Dr Dominique-Sila Khan4 who has done considerable research on Meghwar people and their different beliefs also expounds on this term in an explicit manner. She also traces the famous tradition about the origin of Meghwar Jati and points out that the members of Meghwar were previously known by this name and still the name is repeated in their religious texts as honorified name of ancestors of Meghwar cast
Generally the name Meghwar is composed of two words Megh meaning ‘Rain’ and War meaning one who wards off or stops’ hence ‘one who wards off or stops the rain. Numerous historical texts about the origin of Meghwars of Sindh, Kutchh, Gujarat and Rajasthan where members of this community live, mention the versions of the same tradition. For instance, Rose states that ‘The Meghwal claim descent from Megh-rikh who was created by Narain’.5 Enthoven states that ‘the one who stops or wards off rain is called Meghwal’.6 Mohsin Ali Mohsin tells about Meghwar that ‘Megh means rain + War means to fall it!’.7 But the question is who was Megh Rikh and when and where he lived? Some Meghwar traditions claim that Megh Rikh lived thousands of years ago. A hardcore Meghwar tradition states that Megh Rikh was Rikhesar or Rishi. In this regard, the tradition goes in such a way that:
‘In the Sat Yuga, a group of Rikhesars were engaged in the worship of god Shiva. Feared by their continuous worship, all the gods in the heaven gathered to determine to stop the worship. The god Vishnu in the guise of a Brahman along with a mysterious cow (Kavli Gaw) ascended on the earth and appeared before those Rikhesars. The god Vishnu asked them if they would care his cow for some time, however the god allowed them to drink its milk as much as they wanted. Everyday Rikhesars drank delicious milk from that mysterious cow. One day they thought that its milk is so delicious how much would be tasty its meat. Overwhelmed by that thought, they cut the cow and ate its meat. When Vishnu returned after few days, he could not find his cow and suspected that the Rikhesars had eaten it. Vishnu demanded his cow but Rikhesars lied that they did not know about it. At the same time, the parts the cow began to make sounds from their abdomens. By knowing this, Vishnu became furious, he cursed to the Rikhesars that they would be deserted into jungles for up to three yugas, but however in the fourth Kali Yuga their sin would be removed and be liberated when Matang Dev would come as an Incarnation of God Mahesh.’8 In this tradition it is however not known that who was Megh Rikh among that group of Rikhesars? Whatever the matter be, this is a mythological story and even Puranas do not support it. The most significant point in this tradition lies in the fact that Matang Dev is believed as the Tenth Incarnation of God Mahesh (Shiv).
Another Meghwar tradition seems more relevant and is often recounted in such a way that: ‘A certain Rishi named Ekal Shringi (who had grown one horn on his head) was busy in the deep meditation. All the year he remained in that condition but his meditation came to an interruption when it rained on the earth. He determined to stop the rain forever. Thus he captured the Twelve Meghs (the gods of Rain) and tied them into his horn. By this he could succeed in stopping the rain and the next year there was no rain on the earth. This situation created severe drought and due to scarcity of water the people and the animals began to die. Cultivation had completely destroyed. The people who survived went to the gods and vowed them to save their lives from the tyranny of Ekal Shringi. All gods and goddesses appealed to god Shiva to end the miseries of the human beings and got them relief by freeing the Twelve Meghs from the bondage of the tyrant. God Shiva agreed the request he took a guise of a mendicant and came into the colony of the low caste people where a person named Megh Dharu was living along with his wife and one daughter. It was the same Megh Dharu who was the son of great Megh Rikh. Megh Dharu like his father was truthful and honest. He had always spoken truth and had nothing done wrong in his entire life. Megh Mahatamaya tells that the Megh Rikh was a scion of a certain Parmar king. His previous name was Megh Singh but he sought protection and became a disciple into the hermit of the rishi Dadhichi after an attack on his own country, he came to be known as Megh Rikh’.9 The further detail can be seen in my Ph.D. thesis where I have described all traditions and their historical analysis.
Shiva brought him to the place where Ekal Shringi was lost into meditation. Shiva told Megh Dharu to take a handful dust from under his own feet and threw it on the horn of Ekal Shringi. As soon as he did so, the horn cracked and the Twelve Meghs were freed from the bondage. They instantly returned to the sky at their original place. Afterwards there was no drought and no scarcity of water or food on the earth.’10
However Baghvant states in such a way that ‘god Shiva asked from him three things: Roti, Beti and Langoti i.e. bread, a daughter and a piece of cloth which he immediately provided to the man about whose identity he did not know. Being pleased of his generosity and honesty, god Shiva appeared into his divine form only to show that he was his god, Shiva.’11
In the fourteenth century A.D. the king Ra Navghan (S.-/A.D. 1235?)
12 who ruled the famous state of Junagadh, as the Barmati Panth sources in a Ginan, traces a tradition that ‘Ra Navghan was informed by one of his royal astrologers called Barot
13 that a twelve years long drought is alarming at the doors of his country and he must be prepared for it. The king was influenced by the prediction and ordered his men not to carry any one the water from the country’s reservoirs. He employed there guards to check this. Near to a water tank, there was a colony of the low caste people who were followers of the great spiritual guide Shree Mamai Dev. The spiritual guru had been staying in the colony in order to preach his followers. In the morning, the followers told that the king had imposed order not to take a single drop of water from the water tank, due to which they could not maintain the purity.
14 ‘Mamai Dev determined to meet with Ra Navghan and removed his apprehensions based on false prediction of the royal astrologers. Ra Navghan had already in contact with Mamai Dev and was familiar with the miraculous power of the guru of the low castes. When Mamai Dev reached at the court, he offered him a high seat and asked if he wanted to say something. Mamai Dev told him that his imposition on the supply of water and food reservoirs is not appropriate. He called him to open water and food to the public because there is no drought at all instead of it there would be a heavy rain. This time the king was under the influence of the royal astrologer and was not seemed to be agreed with the Mamai Dev’s prediction. Mamai Dev left the palace. He worshipped at a place near a village Dhandhosan and then mounted on the Girnar’s top hill where he initiated hard practices to please God to make it rain on Junagadh. In very melodious tone, Mamai Dev uttered Ginans and called the Meghs, the rainy clouds. Suddenly, the clouds began to gather over Junagadh and heavy rain began to fill whole of the city. The rain continued to fall for up to three days. King feared that if Mamai Dev would not stop uttering the divine song, the rain would continue to fall and the whole city would be submerged in the flood. So he along with his guards and Meghwars mounted on Girnar and began to call for the mercy of the spiritual guide to bring an end that heavy rain.’
15‘Mamai Dev however told that the rain could be halted only when his beard will be submerged by the rain water. Then, one of his followers moved forward and took some rainy water into a vessel and submerged his beard with it. Mamai Dev was pleased of this pretty trick as the condition had been fulfilled and as it was done by his own follower so Mamai Dev ordered to Meghs to return to their original place and as such rain came to a halt.’ This whole narration can been found in Megh Vinti16 of the Barmati Panth sacred scripture. For the first time, the title was bestowed as Meghwar to the Barmati followers by Mamai Dev himself.
The above historical event states that how the name Meghwar came into existence and that it is not only a name but a title to the followers of Barmati Panth. It is also known that the title Meghwar was coined into the times of Mamai Dev who frequently used it in his own Ginans.
From the above three examples we evaluate that mythological stories about Megh Rikh and Megh Dharu are the only depictions of the historical event which is attached with Shree Mamai Dev’s miraculous event mentioned above as about him a number of historical events may be confirmed from the history. Mamai Dev lived between the second half of the thirteenth century A.D. and the first half of the fourteenth century A.D.
17 He was the great grandson of Matang Dev (11th century A.D.),
18 grand son of Lurang Dev (12th century A.D.)
19 and son of Matai Dev (13th century A.D.
20 He was the fourth spiritual guide of Maheshvari Meghwars – the followers of Barmati Panth. Thus it is now clear that the name Meghwar as previously supposed to be the ancient at least before the time of Mamai Dev is not correct. Rather from the different religious as well as historical evidences it may be established that the title Meghwar came into existence in the time of Mamai Dev. It is right that in the Ginans the word Meghwar has often been used with the narration of Shree Dhani Matang Dev, for instance, the Ginans Megh Vinti
21, Guru Vaso
22, Punje Purkhe Ji Vagat
23. etc but it should be kept in mind that mostly these Ginans were composed by Mamai Dev in whose time the name Meghwar had come into existence and he therefore used the Meghwar title for followers of Matang Dev as well.
The identities of Megh Rikh and Megh Dharu will continue to be mysterious and hardly we can find any clue about their origin in history until we see their traditions in the Meghwar historical personalities which we have tried above. The inhibition of Megh Dharu, the son of Megh Rikh, as the weaver and his life as the low caste in the downtrodden colony helps to compare him with the low caste follower of Matang Dev or Mamai Dev. As we know that weaving was the main profession in which Meghwar people excelled to highest degree. An eminent anthropologist Dr Dominique Sila Khan24 informs that Matang Dev is also regarded as Matang Rikh in Rajasthan in except of the fact that Maheshvari Meghwars consider Matang Dev as their spiritual father (Dada) while Mahya vanshis25 call Megh Rikh as Megh Matang also.



References:

1.Malsi Ladha Baghvant. (1991). Matang Puran ane Meghwar samaj ni utpati. (Matang Puran and Origins of Meghwar society). Kutchh: Printed by Jatashankar Baghvant. p.131. Please see also Unpublished Manuscript. Shree Mamai Dev. See also Unpublished Manuscript. Shree Mamai Dev. Ginan:Megh Vinti. Sur: Sindhoro. Total 7 verses. 14th century A.D. Originally written in Shastri Bhasha. Copied by Kheraj Velji Thonthya in Gujarati script under the same title of the Ginan. 1957. Note Book No.3; p.68. The Ginans of Barmati Panth. Personal collection. Also see Note Book No.3. p.145.



2.Jeevannathji Sadanand Nathaji. (n.d.). Shri Megh Mahatamaya: Meghwar Sant Bhakto na Jivan no tunk parichaya. Narmadateerath Brighu Rishi Ashram Niwasi Maharaj Shri Jeevan Nathji Sadanand Nathji.pp.143-158. It is also called Shiv Sarodha Gyan.



3.Versi R. Lalan, Matang Smriti. Printed by Ramji Mangliya. Mahesh Panthi Sahitya Prakashan. Gandhidham (Kutchh). 2004, p1.



4.See Dominique-Sila Khan, Conversions and Shifting Identities: Ramdev Pir and Ismailis in Rajasthan, 1997, Manohar Publishing Co. Delhi.



5.H.A.Rose. A Glosssary of the tribes and Castes of the Punjab and North-West Frontier. Nirmal Publishers and Distributors, New Delhi.1997.p.148.
6.R.E. Enthoven. The tribes and Castes of Bombay, Vol-III.1922. Bombay Govt. Central Library, Rept. Vol-III, 1975, Cosmo Publications, Delhi, pp.43-52.
7.Tarikh-e-Alam. Printed by the author, Sanghar (Sindh),1991,p.204.
8.ibid. Baghvant,1991, pp.22-26.
9.ibid. Baghvant. P.14.
10.ibid. Jivannathji. n.d. pp.14-19.
11.ibid. Baghvant. P.42.
12.James Burgess. Antiquities of Kutch and Kathiawar, Sindhi Adabi Board, 1991. p.165. Hyderabad. According to the dynastic table of the kings of Junagadh given by James Burgess, he might be Ra Mahipal II (Sam.1421/A.D. 1371) who existed in the time of Mamai Dev.
13.A traditional genealogist who used to keep register to note down a family’s lineage and important facts.
14.ibid. Baghvant. 1991. p.122.
15.ibid. Baghvant. p.133.
16.See note 1.
17.Mohan Devraj Thontya. PhD Thesis titled History and Culture of Meghwar: From the earliest times to the modern age submitted in July 2009 at the University of Karachi for award of degree. p.177.
18.Thontya. ibid. p.180
19.ibid. p.182.



20.ibid. p.182
21.See above note
16.
22.See above note 16.
23.Unpublished Manuscript. Shree Mamai Dev. Ginan:Panje Purkhe Ji Vagat. Sur Sindhoro. Total 5 verses+Vel. 14th century A.D. Originally written in Shastri Bhasha. Copied by Kheraj Velji Thonthya in Gujarati script under the same title of the Ginan. 1957. Note Book No.4; pp.14-16. The Ginans of Barmati Panth. Personal collection.



24.See Dominique-Sila Khan. ibid.


25.See Jivannathji. ibid. p.94.
Tags:


  meghwal samaj ki samuhik bethak ka darshy(add by  ..navratna mandusiya)

  meghwal samaj ka naam roshan karne wale mha nubhavo ka  savgat system   (add by  ..navratna mandusiya surera )  

 meghwal samaj ke mahanubhavo ka darshy 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  



 meghwal samaj ko aage bhadane ko lekar vichar vimarh 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  


 meghwal population of india & pakisthan 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  



 meghwal samaj ke sant  shree megh rishi ji maharaj 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  


 meghwal samaj ka shashan tha harpa mohan jodro  sindu sabhyata ke samay 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  



   meghwal samaj ke sant  shree megh rishi ji maharaj 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  

   meghwal samaj ke sant  shree megh rishi ji maharaj 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  


   meghwal samaj ke sant  shree megh rishi ji maharaj 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  

   meghwal samaj ke sant  shree megh rishi ji maharaj 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  


  meghwal samaj ka shashan tha harpa mohan jodro  sindu sabhyata ke samay 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  

  meghwal samaj ka shashan tha harpa mohan jodro  sindu sabhyata ke samay 
(add by  ..navratna mandusiya surera )  


c





मेघवाल और उसके साहित्य के इतिहास के इतिहास के कई पहलुओं ताकि धुंध में डूबा रहे हैं कि हम ऐतिहासिक घटनाओं और पौराणिक मान्यताओं जहां Pauranic संदर्भ ऐतिहासिक तथ्यों में दूर तक फैला हुआ है की झरझरा सीमा नहीं अंतर कर सकते हैं. तो महान Meghwar व्यक्तित्व जो भारतीय उपमहाद्वीप के मध्यकालीन इतिहास में ऐतिहासिक जीवन रहते थे के साथ मामला है. हम कठिनाइयों का सामना जब मेघ Rikh, मेघ Dharu, मेघ Mahya या खुद Meghwar की पहचान पूछताछ की है. इस लेख में हम मेघ Rikh और मेघ Dharu की ऐतिहासिक पहचान को समझने की कोशिश करेंगे. वहाँ आम धारणा है कि मेघ Rikh Meghwar के प्रधानमंत्री पूर्वज किया गया है. Meghwar पारंपरिक साहित्य और मौखिक कहानियों में वे सब एक जैसे Meghwars बीच सबसे श्रद्धेय व्यक्तित्व के रूप में माना जाता है. Meghwar स्वयं को इस महान संत के वंशज के रूप में विचार. यह भी कहा है कि वह दिव्य ज्ञान सीधे भगवान शिव से हो गया और उसके मेघ Dharu नामित बेटा है जो बाद में यह Meghwar जाति या Meghwar समुदाय को संपन्न करने के लिए नीचे हाथ. सचमुच, मेघ वर्षा का अर्थ है और Rikh एक स्थानीय राजस्थानी या Kutchhi बोली अर्थ ऋषि है. दोनों पदों मेघ और ऋषि संस्कृत भाषा से आए हैं. के रूप में वर्णित है, मेघ 'बारिश' का अर्थ है लेकिन पौराणिक संदर्भ में शब्द का आमतौर पर 'वर्षा god'1 को जिम्मेदार ठहराया है. जबकि एक अन्य शब्द Rikh, मूल संस्कृत शब्द ऋषि, जो हिंदू धार्मिक रिवाजों में एक तपस्वी या एक द्रष्टा में जाना जाता है की एक निराकृत फार्म. एक ऋषि एक प्राचीन धार्मिक व्यक्ति है जो अक्सर जंगल में एक सुनसान जगह पर या पहाड़ पर धार्मिक प्रथाओं में शामिल किया गया है. यह देखा गया है कि अपने स्थानीय रूप में पद Rikh पाया गया था या Meghwar परंपराओं में प्रसिद्ध पहली बार बन गया है और अब इस समुदाय के एक पहचान बन गया है. इसी अवधि Rikhesar भी जाना जाता है जो 'चीफ Rikh' या 'चीफ ऋषि' का अर्थ है. यह संभव है कि इस शब्दावली मेघ Rikh के लिए किया गया हो सकता भी इस्तेमाल किया.



विभिन्न panths और धार्मिक आदेशों से संबंधित Meghwars मेघ Rikh की उत्पत्ति के बारे में अपने स्वयं के संस्करणों लेकिन एक समानता गहरे में परंपरा के सभी संस्करणों में निहित है. यह मेघ Mahatamaya2 में कहा जाता है कि भगवान शिव मेघ Rikh जो उन्हें नीचे उनके पुत्र मेघ Dharu को सौंप दिया Agama Nigama बोला. मेघ Dharu उनके धार्मिक जीवन के लिए Meghwar जाति या Meghwar समुदाय के सदस्यों को दिव्य शब्दों संपन्न. Barmati पारंपरिक साहित्य भी बताता है कि .3 एक प्रख्यात मानव विज्ञानी डॉ. डोमिनिक-Sila Khan4 जो Meghwar लोगों और उनके अलग मान्यताओं पर काफी शोध किया है, 'मेघ Rikh सीधे हिंदू देवता ब्रह्मा से उतरा था' भी एक स्पष्ट तरीके से इस पद पर expounds. वह भी Meghwar जाति की उत्पत्ति के बारे में प्रसिद्ध परंपरा निशान और बताते हैं कि Meghwar के सदस्यों को पहले से इस नाम से जाने जाते थे और अभी भी नाम Meghwar जाति के पूर्वजों की honorified नाम के रूप में उनके धार्मिक ग्रंथों में भी दोहराया है.



आम तौर पर नाम Meghwar दो मेघ अर्थ 'वर्षा' और युद्ध के अर्थ एक है जो बंद वार्ड शब्दों से बना है या 'इसलिए' एक वार्डों कौन रोकता है बंद या बारिश रुक जाती है. सिंध, Kutchh, गुजरात और राजस्थान की Meghwars जहाँ इस समुदाय के सदस्यों जीने की उत्पत्ति के बारे में कई ऐतिहासिक ग्रंथों, इसी परंपरा के संस्करण का उल्लेख है. उदाहरण के लिए, राज्यों गुलाब कि 'मेघ-rikh से मेघवाल दावा वंश जो नारायण द्वारा बनाया गया था' .5 Enthoven कहा गया है कि .6 मोहसिन अली मोहसिन 'जो बंद हो जाता है या बारिश बंद वार्ड मेघवाल कहा जाता है' Meghwar के बारे में बताता है कि 'मेघ साधन बारिश + युद्ध करने के लिए इसे! '.7 गिरावट का मतलब है लेकिन सवाल यह है जो मेघ Rikh था और जब और जहां वह रहता है? कुछ Meghwar परंपराओं का दावा है कि मेघ Rikh हजारों साल पहले रहते थे. एक कट्टर Meghwar परंपरा कहा गया है कि मेघ Rikh Rikhesar या ऋषि था. इस संबंध में, परंपरा इस तरह है कि में चला जाता है:



'शनि युग में, Rikhesars के एक समूह को भगवान शिव की उपासना में लगे हुए थे. उनकी निरंतर आराधना से डर था, स्वर्ग में सभी देवताओं की पूजा करना बंद कर निर्धारित इकट्ठा. भगवान विष्णु एक रहस्यमय गाय (Kavli Gaw) के साथ एक ब्रह्म की आड़ में पृथ्वी पर चढ़ा और उन Rikhesars से पहले दिखाई दिया. भगवान विष्णु ने उन से पूछा कि अगर वे कुछ समय के लिए उसकी गाय की देखभाल, लेकिन भगवान उन्हें अपने दूध पीते हैं के रूप में ज्यादा के रूप में वे चाहते थे की अनुमति होगी. हर दिन Rikhesars कि रहस्यमय गाय से स्वादिष्ट दूध पिया. एक दिन उन्होंने सोचा कि इसकी दूध इतना स्वादिष्ट है कितना स्वादिष्ट इसके मांस होगा. उस विचार से अभिभूत हैं, वे गाय कटौती और उसके मांस खा लिया. जब विष्णु कुछ दिनों के बाद लौट आए, वह अपनी गाय नहीं मिल रहा है और संदेह है कि Rikhesars खा सकता था. विष्णु उसकी गाय की मांग की लेकिन Rikhesars झूठ बोला था कि वे इसके बारे में पता नहीं था. इसी समय, गाय भागों में उनके पेट से लगता है बनाना शुरू कर दिया. यह जानने के द्वारा, विष्णु उग्र हो गया, वह Rikhesars कि वे तीन युगों के लिए जंगलों में वीरान हो जाएगा करने के शाप दिया, लेकिन फिर चौथे में युग काली उनके पाप हटा दिया जाएगा और मुक्त हो सकता है जब Matang देव का एक अवतार के रूप में आया होगा भगवान महेश की इस परंपरा में '8 लेकिन यह ज्ञात है कि कौन Rikhesars की कि समूह के बीच मेघ Rikh नहीं किया गया.? जो भी मामला हो, यह एक पौराणिक कथा है और यहां तक ​​कि पुराणों में इसे समर्थन नहीं करते. इस परंपरा में सबसे महत्वपूर्ण बिंदु इस तथ्य है कि Matang देव भगवान महेश (शिव) की दसवीं अवतार के रूप में माना जाता है में निहित है.



एक अन्य Meghwar परंपरा अधिक प्रासंगिक लगता है और अक्सर इस तरह है कि में recounted: 'एक निश्चित एकल Shringi (जो उसके सिर पर एक सींग हो गया था) नाम ऋषि गहरे ध्यान में व्यस्त था. सभी वर्ष वह उस हालत में बने रहे, लेकिन उसका ध्यान एक रुकावट के लिए आया था जब यह धरती पर बारिश. वह बारिश हमेशा के लिए बंद निर्धारित की. इस प्रकार वह बारह Meghs (देवताओं वर्षा की) पर कब्जा कर लिया और उन्हें अपने सींग में बंधे. ऐसा करके वह बारिश को रोकने में सफल होने और अगले वर्ष वहाँ पृथ्वी पर कोई बारिश थी. यह स्थिति गंभीर सूखे बनाया और कारण पानी की कमी से लोगों और पशुओं को मरने के लिए शुरू किया. खेती पूरी तरह से नष्ट कर दिया था. जो लोग बच देवताओं के पास गया और उन्हें कसम खाई को एकल Shringi के आतंक से अपनी जान बचाने के लिए. सभी देवी देवताओं भगवान शिव से अपील की कि मनुष्य के दुख अंत और तानाशाह के बंधन से बारह Meghs मुक्त करके उन्हें राहत मिली. भगवान शिव के अनुरोध वह एक भिक्षुक की आड़ ले ली और निम्न जाति के लोगों को जहां एक मेघ Dharu नाम के व्यक्ति साथ में उसकी पत्नी और एक बेटी के साथ रह रहा था की बस्ती में आया पर सहमत हुए. यह वही मेघ Dharu जो महान मेघ Rikh का पुत्र था. अपने पिता की तरह मेघ Dharu सच्चा और ईमानदार था. वह हमेशा सच बोला था और कुछ भी नहीं है अपने पूरे जीवन में गलत किया. मेघ Mahatamaya बताता है कि मेघ Rikh एक निश्चित परमार राजा के वंशज था. उनका पिछले नाम मेघ सिंह था, लेकिन वह सुरक्षा की मांग की और अपने देश पर हमले के बाद Dadhichi ऋषि की एकांतवासी में एक शिष्य बन गए, वह मेघ 'Rikh आगे विस्तार .9 के रूप में जाना जाने लगा मेरे फोन में देखा जा सकता है डी. थीसिस जहाँ मैं सब परंपराओं और उनके ऐतिहासिक विश्लेषण का वर्णन किया है.



शिव ने उस जगह जहां एकल Shringi ध्यान में खो गया था करने के लिए लाया. शिव मेघ Dharu कहा था कि अपने पैरों के नीचे से एक मुट्ठी धूल ले और यह एकल Shringi की सींग पर फेंक दिया. जैसे ही वह वैसा ही किया, सींग फटा और बारह Meghs बंधन से मुक्त किया गया. वे तुरन्त अपने मूल स्थान पर आकाश में लौट आए. बाद में वहाँ कोई सूखा और पृथ्वी पर पानी या भोजन की कोई कमी नहीं था '10.



रोटी बेटी, और Langoti यानी रोटी, एक बेटी और कपड़े का एक टुकड़ा जो वह तुरंत के बारे में आदमी जिनकी पहचान वह नहीं जानता था करने के लिए प्रदान की: इस तरह है कि 'भगवान शिव उसके पास से तीन बातों में पूछा लेकिन Baghvant राज्यों. होने के नाते उसकी उदारता और ईमानदारी की कृपा, भगवान शिव ने अपने दिव्य रूप में प्रकट हुए केवल दिखाने के लिए कि वह अपने देवता, शिव था '11.



चौदहवें सदी ई. में राजा रा Navghan 12 जो जूनागढ़ के प्रसिद्ध राज्य शासन के रूप में एक Ginan में Barmati पंथ स्रोतों, एक परंपरा है कि 'रा Navghan उनके एक शाही के द्वारा सूचित किया गया था निशान (1235 S.-/AD?) ज्योतिषियों Barot13 कहा जाता है कि एक बारह साल के लंबे सूखे को अपने देश के दरवाजे पर खतरनाक है और वह इसके लिए तैयार रहना चाहिए. राजा भविष्यवाणी से प्रभावित था और उसके आदमियों को ले जाने के लिए नहीं किसी भी एक देश के जलाशयों से पानी का आदेश दिया. वह नियोजित वहाँ के लिए इस चेक गार्ड. एक पानी की टंकी के पास, वहाँ कम जाति के लोगों को जो महान आध्यात्मिक मार्गदर्शक श्री Mamai देव के अनुयायी थे की एक बस्ती थी. आध्यात्मिक गुरु कॉलोनी में रह गया था ताकि उनके अनुयायियों उपदेश. सुबह में, अनुयायियों से कहा कि राजा क्रम लगाया गया था कि पानी की टंकी से पानी की एक बूंद भी नहीं लेते हैं, जो की वजह से वे पवित्रता नहीं निभा सकती '14.



'Mamai देव को रा Navghan के साथ मिलने के निर्धारित और शाही ज्योतिषियों की झूठी भविष्यवाणी के आधार पर उसकी आशंकाओं को हटा दिया. रा Navghan Mamai देव के साथ संपर्क में पहले से ही था और निम्न जातियों के गुरू की चमत्कारी शक्ति से परिचित था. जब Mamai देव दरबार में पहुंचे, वह उसे एक उच्च सीट की पेशकश की और पूछा कि क्या वह कुछ कहना चाहते थे. Mamai देव ने उन्हें बताया कि पानी और भोजन जलाशयों की आपूर्ति पर उसकी अधिरोपण उचित नहीं है. उसने उसे जनता के लिए पानी और भोजन के लिए खुला है क्योंकि वहाँ कोई सूखा यह करने के बजाय सभी में है वहाँ एक भारी वर्षा हो जाएगा बुलाया. इस बार राजा शाही ज्योतिषी के प्रभाव के तहत किया गया था और लग रहा था Mamai देव भविष्यवाणी से सहमत होना जरूरी नहीं. Mamai देव महल छोड़ दिया. वह एक गांव Dhandhosan के निकट एक स्थान पर पूजा की और फिर गिरनार ऊपर पहाड़ी पर मुहिम शुरू की जहां उन्होंने कठिन प्रथाओं शुरू करने के लिए भगवान को खुश करने के जूनागढ़ पर यह वर्षा करते हैं. बहुत मधुर स्वर में, Mamai देव Ginans बोला और Meghs, बरसात के बादल बुलाया. अचानक बादलों को जूनागढ़ के ऊपर इकट्ठा करना शुरू किया और भारी बारिश से शहर की पूरी भरने लगे. बारिश करने के लिए तीन दिन के लिए गिरावट जारी रखा. राजा को डर था कि अगर Mamai देव दिव्य गीत बोले बंद नहीं होगा, बारिश गिर करने के लिए जारी रहेगा और पूरे शहर बाढ़ में जलमग्न हो जाएगा. इसलिए उसके गार्ड और गिरनार पर घुड़सवार Meghwars के साथ साथ वह करने के लिए और आध्यात्मिक गाइड की दया के लिए कॉल करने के लिए एक अंत है कि भारी बारिश लाना शुरू किया '15.



'Mamai देव तथापि बताया कि बारिश रुक जा केवल जब उसकी दाढ़ी बारिश के पानी से जलमग्न हो जाएगा. फिर, एक अपने अनुयायियों के आगे चले गए और एक बर्तन में कुछ बरसात के पानी लिया और इसके साथ अपनी दाढ़ी जलमग्न. Mamai देव इस सुंदर चाल के रूप में शर्त को पूरा किया गया था और के रूप में इसे अपने ही अनुयायी द्वारा किया गया था ताकि Mamai देव को अपने मूल स्थान पर वापस आने के Meghs का आदेश दिया और जैसे बारिश एक रोकने के लिए आया था की कृपा है. था 'यह कथन पूरे कर सकते हैं किया गया Barmati पंथ पवित्र शास्त्र के Vinti16 मेघ में पाया. पहली बार, शीर्षक Mamai खुद देव द्वारा Barmati अनुयायियों को Meghwar रूप दिया गया था.



ऊपर ऐतिहासिक घटना कहा गया है कि कैसे नाम Meghwar अस्तित्व में आया और कहा कि यह न केवल एक नाम है लेकिन Barmati पंथ के अनुयायियों के लिए एक शीर्षक है. यह भी ज्ञात है कि शीर्षक Meghwar Mamai देव के समय जो अक्सर वह अपने ही Ginans में इस्तेमाल में गढ़ा गया था.



ऊपर तीन उदाहरण हम मूल्यांकन कि मेघ Rikh और मेघ Dharu के बारे में पौराणिक कहानियों ऐतिहासिक घटना है जो श्री Mamai देव चमत्कारी घटना के साथ जुड़ा हुआ है का केवल चित्रण से हैं के रूप में उसके बारे में ऊपर ऐतिहासिक घटनाओं की एक संख्या के उल्लेख इतिहास से पुष्टि की जा सकती है. Mamai देव तेरहवीं शताब्दी ई. के दूसरी छमाही और चौदहवें AD17 सदी की पहली छमाही वह Matang (11 वीं शताब्दी ई.) देव, 18 Lurang देव की भव्य बेटा (12 वीं शताब्दी ई.) 19 और पुत्र के महान पोता था बीच में रहते थे Barmati पंथ के अनुयायियों - Matai (13 वीं शताब्दी ई.) देव 20 का वह Maheshvari Meghwars के चौथे आध्यात्मिक मार्गदर्शक था. इस प्रकार यह अब स्पष्ट है कि नाम Meghwar के रूप में पहले से Mamai देव का समय सही नहीं है से पहले कम से कम प्राचीन माना जाता. यह अलग रूप में भी धार्मिक ऐतिहासिक प्रमाणों से बल्कि स्थापित किया जाना चाहिए कि शीर्षक Meghwar Mamai देव के समय में अस्तित्व में आया हो सकता है. यह सही है, उदाहरण के लिए Ginans मेघ Vinti21, गुरू Vaso22, Punje Purkhe Vagat23 जी. कि Ginans में शब्द Meghwar अक्सर श्री धानी Matang देव का कथन के साथ प्रयोग किया गया है, आदि, लेकिन यह ध्यान रखें कि ज्यादातर इन Ginans Mamai देव द्वारा समय जिसका नाम Meghwar अस्तित्व में आया था और वह इसलिए देव के रूप में अच्छी तरह से Matang के अनुयायियों के लिए Meghwar शीर्षक इस्तेमाल में बना रहे थे में रखा जाना चाहिए.



मेघ Rikh और मेघ Dharu की पहचान को रहस्यमय होना जारी है और शायद ही हम इतिहास में अपने उद्गम के बारे में कोई सुराग मिल जब तक हम Meghwar ऐतिहासिक व्यक्तित्व जो हम से ऊपर की कोशिश की है में अपनी परंपरा को देख सकते हैं होगा. बुनकर तथा दलित बस्ती में निम्न जाति के रूप में अपने जीवन के रूप में मेघ Dharu, मेघ Rikh के पुत्र का निषेध करने के लिए उसे Matang देव या Mamai देव की निम्न जाति के अनुयायी के साथ तुलना करने में मदद करता है. जैसा कि हम जानते हैं कि बुनाई मुख्य पेशा है जिसमें Meghwar लोग सर्वोच्च डिग्री करने के लिए उत्कृष्ट प्रदर्शन किया था. एक प्रख्यात मानव विज्ञानी डॉ. डोमिनिक Sila Khan24 बताते हैं कि Matang देव भी है राजस्थान में Matang Rikh रूप में तथ्य यह है कि Maheshvari Meghwars उनके आध्यात्मिक पिता के रूप में देव (दादा) Matang पर विचार करते समय Mahya vanshis25 मेघ के रूप में फोन मेघ Rikh भी Matang के सिवाय माना जाता है.



सन्दर्भ:

1.Malsi Ladha Baghvant. (1991). Matang पूरन ane Meghwar समाज नी utpati. (Matang पुराण और Meghwar समाज के मूल). Kutchh: Jatashankar Baghvant द्वारा मुद्रित. p.131. भी अप्रकाशित पांडुलिपि देखें. श्री Mamai देव. भी अप्रकाशित पांडुलिपि को देखें. श्री Mamai देव. Ginan: मेघ Vinti. सुर: Sindhoro. कुल 7 छंद. 14 वीं सदी ई. मूलतः शास्त्री भाषा में लिखा है. Ginan की इसी शीर्षक के अंतर्गत गुजराती लिपि में Kheraj Velji Thonthya द्वारा नकल की. 1957. बुक .3 नोट, p.68. Barmati पंथ के Ginans. निजी संग्रह. इसके अलावा नोट बुक .3 देखें. p.145.



2.Jeevannathji सदानंद Nathaji. (N.d.). श्री मेघ Mahatamaya: Meghwar संत Bhakto ना जीवन नहीं tunk parichaya. Narmadateerath Brighu ऋषि आश्रम Niwasi महाराज श्री जीवन जी Nathji.pp.143 158 सदानंद. यह भी शिव Sarodha ज्ञान कहा जाता है.



3.Versi आर ललन, Matang स्मृति. रामजी मांगलिया द्वारा मुद्रित. महेश Panthi साहित्य प्रकाशन. गांधीधाम (Kutchh). 2004, p1.



4.See डोमिनिक-Sila खान, रूपांतरणों और स्थानांतरण पहचान: रामदेव पीर और Ismailis राजस्थान में, 1997, मनोहर प्रकाशन कंपनी दिल्ली.



5.H.A.Rose. पंजाब और उत्तर पश्चिम सीमांत के जनजाति और जातियों की एक Glosssary. निर्मल प्रकाशक और वितरक, Delhi.1997.p.148 नई.



6.R.E. Enthoven. जनजातियों और बंबई की जातियों, खंड-III.1922. बंबई सरकार. केन्द्रीय पुस्तकालय, REPT. वॉल्यूम-III, 1975, कॉस्मो प्रकाशन, दिल्ली, pp.43-52.



7.Tarikh ए आलम. लेखक, (सिंध) Sanghar, 1991, p.204 द्वारा मुद्रित.



8.ibid. Baghvant, 1991, pp.22-26.



9.ibid. Baghvant. P.14.



10.ibid. Jivannathji. n.d. pp.14-19.



11.ibid. Baghvant. P.42.



12.James बर्गेस. कच्छ और काठियावाड़, सिन्धी Adabi बोर्ड, 1991 के पुरावशेष. p.165. हैदराबाद. जेम्स बर्गेस द्वारा दिए जूनागढ़ के राजाओं के वंशवादी तालिका के अनुसार, वह रा महिपाल (1371 Sam.1421/AD II) जो Mamai देव के समय में ही अस्तित्व में हो सकता है.



13.A परंपरागत genealogist जो करने के लिए नीचे एक परिवार वंशावली और महत्वपूर्ण तथ्यों नोट रजिस्टर रखने के लिए किया.



14.ibid. Baghvant. 1991. p.122.



15.ibid. Baghvant. p.133.



16.See 1 ध्यान दें.



17.Mohan देवराज Thontya. जल्द से जल्द काल से आधुनिक कराची विश्वविद्यालय में जुलाई 2009 में डिग्री के पुरस्कार के लिए पेश की उम्र तक: पीएचडी थीसिस इतिहास एवं Meghwar की संस्कृति शीर्षक. p.177.



18.Thontya. ibid. p.180.



19.ibid. p.182.



20.ibid. p.182.



16 नोट ऊपर 21.See.



16 नोट ऊपर 22.See.



23.Unpublished पांडुलिपि. श्री Mamai देव. Ginan: Panje Purkhe जी Vagat. सुर Sindhoro. कुल 5 + छंद वेळ. 14 वीं सदी ई. मूलतः शास्त्री भाषा में लिखा है. Ginan की इसी शीर्षक के अंतर्गत गुजराती लिपि में Kheraj Velji Thonthya द्वारा नकल की. 1957. नोट संख्या 4 बुक करें; pp.14 16-. Barmati पंथ के Ginans. निजी संग्रह.



24.See डोमिनिक-Sila खान. ibid.



25.See Jivannathji. ibid. p.94.




टैग:

New! Click the words above to view alternate translations. Dismiss

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सी चीज़ें एक ही स्थान पर एकत्रित कर दी हैं आपने. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. The above original English article is not translated in Hindi by me, however I appreciate to make it posted for public comments, although the translation is not in standard form.
    Thank you Bhushan Ji for your precious comment.
    Mohan Devraj Thontya (Karachi)

    उत्तर देंहटाएं
  3. नई दिल्लीबीकानेर सांसद अर्जुन राम मेघवाल ने लोकसभा के प्रष्नकाल में इन्दिरा गांधी आवास योजना के संबंध में मुद्दा उठाते हुए कहा है कि जिस प्रकार देष के उत्तर पूर्वी राज्यों एवं सिक्किम में उक्त योजना के अन्तर्गत केन्द्र सरकार द्वारा 90 प्रतिषत की सहायता राषि दी जाती है, उसी प्रकार राजस्थान के इन्दिरा गांधी आवास योजना के अन्तर्गत चयनित परिवारों को भी केन्द्र सरकार 75 प्रतिषत के स्थान पर 90 प्रतिषत सहायता राषि प्रदान करे। इसके अतिरिक्त रेगिस्तानी इलाका होने के कारण यहां निर्माण की लागत भी अधिक आती है। अतः निर्माण की लागत भी बढ़ाने की स्वीकृति दे ताकि इन्दिरा आवास योजना में स्वीकृत व्यक्ति अपना घर का निर्माण कर सके।
    सांसद मेघवाल ने यह भी कहा की इन्दिरा आवास योजना में जो बी0पी0एल0 हाउसहोल्ड होते है, उन पर लागू होती है, लेकिन कई बार ऐसा देखा गया है कि आग लग जाती है और आग लग जाने के बाद मकान नष्ट हो जाता है, लेकिन जो बीपीएल नहीं होता है, उसको आग लगने पर उस मकान के कंस्ट्रक्षन का पैसा किसी भी मद में नहीं दिया जाता है। अतः उनको भी पुर्निर्माण का पैसा मिलना चाहिए।
    यह खबर निम्न श्रेणियों पर भी है: Bikaner News Your Comments ! Share Your Openion

    उत्तर देंहटाएं
  4. More about Mamai deva @ Chandruvo https://www.facebook.com/kutchscience/posts/425210354280226

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Friends very good Blog on Meghwar and good informative blog.
    Please Visit our website on Meghwar and Mamaidev
    Links for more information
    http://mamaidev.vinzoda.com
    http://nitinvinzoda.wordpress.com
    http://nitinvinzoda.wordpress.com

    उत्तर देंहटाएं

नवरत्न मन्डुसिया

सरकारी सेवा के बाद भी सेवा समाप्त नही होती :- मन्डुसिया

दिल्ली : जिला अस्पताल में तैनात चीफ फार्मासिस्ट आलोक यादव  के सेवानिवृत्त होने पर आयोजित विदाई समारोह में उन्हें विदाई दी गई। इस मौके स्मृति...