गुरुवार, 30 जून 2011

जनगणना में अपनी मातृभाषा पंजाबी लिखवाएं


पूंडरी, संवाद सहयोगी : हरियाणा मेघ सभा की बैठक रविवार को गांव फतेहपुर में प्रधान सुभाष आर्य की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए आर्य ने सभी मेघ जाति के लोगों से अपील की कि वे एक मई से शुरू हुई जनगणना में अपनी मातृभाषा पंजाबी लिखवाएं, जो कि उनके लिए गर्व का विषय है।

उन्होंने बताया कि पंजाब एवं जम्मू कश्मीर के राज्य गजट में पहले से इस जाति की भाषा को पंजाबी दर्शाया गया है। हरियाणा, दिल्ली व राजस्थान में समाज के लोगों ने अपनी पहचान पंजाबी भाषाई एवं संस्कृति के तौर पर बना रखी है। इस अभियान की शुरूआत बंटवारे के समय पाकिस्तान से आए समाज के लोगों को राजनैतिक तथा सामाजिक मजबूती देने के लिए की गई थी। इसी उद्देश्य से कार्यकारिणी की पहली बैठक सीवन में आयोजित हुई । बैठक में कार्यकारिणी के सभी सदस्य मौजूद थे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

नवरत्न मन्डुसिया

खाटूश्यामजी मे होगा 25 दिसम्बर 2017 को बलाई समाज का सामूहिक विवाह सम्मेलन

नवरत्न मन्डुसिया की कलम से //बेटा अंश है तो बेटी वंश है, बेटा आन है तो बेटी शान है, का संदेश देते हुए राज्य स्तरीय सामूहिक विवाह व पुर्नविवा...